Advocate Sector में वेबसाईट का फायदा

Website Benefit in Advocate Sector Maya Digital

कुछ लोग यह सोच कर आगे नहीं पढ़ेंगे कि हमने तो वेबसाईट बनवायी परन्तु कोई फायदा नहीं हुआ, तो उनके लिये मैं यह कहना चाहूंगा कि आपने अपनी वेबसाईट बिना सोचे-समझे बनवा ली और उसका उपयोग भी नहीं किया। तो मैं उनसे यह कहना चाहूंगा कि इस लेख को पूरा पढ़ें और फिर निर्णय लें।

वेबसाईट किस तरह की बनवायें और कैसे उसका उपयोग करें ये सब हम आपको माया डिजीटल के ब्लाग में अलग आर्टिकल में बतायेंगे। अभी हम मुख्य आर्टीकल की बात करते हैं।

सर्विस सैक्टर में वेबसाईट किस प्रकार सहायक हो सकती है?

मान लेते हैं कि आप एक एडवोकेट हैं और आपका काम लोगों को कानूनी सलाह देने का या फिर कानूनी कार्य कराने का है।

इस केस में आपको एक डायनमिक वेबसाईट बनवानी चाहिये जिसमें ईन्टरएक्टिव (Interactive) फीचर हों। ईन्टरएक्टिव वेबसाईट स्टेटिक वेबसाईट के मुकाबले महंगी होती है परन्तु ये आपको रिज़ल्ट देने में सक्षम होती है।

आपको ईन्टरएक्टिव वेबसाईट क्यों बनवानी है? जाहिर सी बात है कि आप वेबसाईट सिर्फ इसलिये तो नहीं बनवायें कि कोई व्यक्ति आपकी दुकान (वेबसाईट) पर आये और आपकी जानकारी देखे और चला जाये।

आप यही चाहेंगे कि जो विजिटिर आपकी आनलाईन दुकान पर आये आपसे बात करे और आपको व्यापार दे। यदि यही आपका वेबसाईट बनवाने का उददेश्य है तो आप बिल्कुल सही दिशा में हैं। और इसके लिये आपको ईन्टरएक्टिव वेबसाईट ही बनवानी चाहिये।

उदाहरण
अब मान लेते हैं कि कोई व्यक्ति आपकी आनलाईन दुकान यानि वेबसाईट पर आता है जिसको चालान सम्बन्धी जानकारी चाहिये तो वह आपकी साईट पर अपने सवाल का जवाब ढ़ूंढ़ने की कोशिश करेगा कि उसका चालान हो गया है अब क्या करना है, अब आपकी साईट उससे कुछ सवाल पूछेगी, जैसे-

साईट द्वारा पूछे गये सवाल-

  1. आपका नाम क्या है?
  2. आपका चालान किस शहर में हुआ है?
  3. आपका वाहन कौन सा है?
  4. क्या आपके पास सभी कागजात उपलब्ध हैं?
  5. आपका चालान क्यों हुआ है?
  6. क्या आप अपने चालान की फोटो भेज सकते हैं?
  7. यदि आप दी गई जानकारी से सन्तुष्ट हैं और हमसे कार्य कराना चाहते हैं तो आप हमारे नम्बर …………………….. पर सम्पर्क करें।

अब चाहे आप जाग रहे हैं या सो रहे हैं, उपरोक्त सवाल आपकी वेबसाईट बिना किसी मनुष्य की मदद के ये सब सवाल आपके कस्टमर से करेगी और आपकी जगह कस्टमर से सम्वाद करेगी। और साथ ही कस्टमर के द्वारा पूछे जाने वाले सवालों के भी जवाब देगी। क्योंकि कस्टमर अपने सवालों के जवाब के लिये ही आपकी साईट पर आया है न कि आपका बायो डाटा पढ़ने।

कस्टमर द्वारा पूछे जाने वाले सवाल-

  1. आपका आफिस कहां है?
  2. मेरा चालान छुड़वाने में कितना समय लगेगा?
  3. चालान छुड़वाने की फीस क्या होगी?

इस तरह आपके कस्टमर को उसके सवालों के जवाब मिलते हैं, और वो ज्यादा देर तक आपकी दुकान पर रूका रहता है। याद रखें कि ज्यादा देर तक रूके रहने वाला कस्टमर ही आपको बिजनेस देता है, और जब उसे अपने सवालों के जवाब मिलेंगे तो वह ज्यादा देर तक आपकी वेबसाईट पर रूकेगा और अन्त में 80 प्रतिशत लोग ऐसे होंगे जो आपको अमुक कार्य के लिये चुनेंगे।

वेबसाईट डिजाईनिंग पर पायें 68% की छूट, जल्दी करें आफर सीमित समय के लिये है।

वहीं अगर आपकी ये वेबसाईट स्टेटिक होती तो कस्टमर को अपने किसी भी तरह के सवाल का जवाब नहीं मिल पाता और वो आपकी साईट को कुछ ही सेकंड में बन्द कर देता और काम मिलने की सम्भावना होती ‘0’ जीरो।

माया डिजीटल वेबसाईट के कुछ अन्य मुख्य फायदे

  • यह आपके कस्टमर को आपसे जोड़े रखता है।
  • आपका व्यापार 24 घण्टे आनलाईन रहकर कस्टमर की जेब में मोबाईल के जरिये उसकी पहुंच में रहता है।
  • वेबसाईट नये कस्टमर की पहुंच मे आसानी से रहती है।
  • यह आपकी व्यापारिक इमेज को बढ़ाता है।
  • जो लोग सीधे बात करने से कतराते हैं वे भी वेबसाईट के माध्यम से आपसे जुड़े रहते हैं, क्योंकि वेबसाईट उनकी गोपनीयता को बनाये रखती है।
  • वेबसाईट सिर्फ आपके कस्टमर तक सीमित नहीं रहती है, वेबसाईट होने पर यह आपके कस्टमर के सामाजिक एरिया तक पहंच जाती है।
  • इसके अलावा भी ढ़ेरों फायदे हैं वेबसाईट के….

तो इस तरह आपने देखा कि किस तरह वेबसाईट के माध्यम से एडवोकेट सैक्टर में नये व पुराने कस्टमर को अपने साथ जोड़े रखा जा सकता है। वेबसाईट बनवाने के लिये आज ही सम्पर्क करें माया डिजीटल 7535011248

यह लेख आपको कैसा लगा या फिर आप वेबसाईट से सम्बन्धित कोई और जानकारी चाहते हैं तो नीचे दिये गये कमन्ट बाक्स में टाईप करें।

धन्यवाद!
माया डिजीटल

One thought on “Advocate Sector में वेबसाईट का फायदा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *